Tag Archives: Hindi Poetry

कुछ खो से गएँ हैं

हिंदी में मेरी पहली रचना है, असुविधा के लिए खेद है | 😀 *** कुछ खो से गएँ हैं सपनो का वोह कतरा कहीं छुट सा गया है कहते थे सब, इस राह पे चलो राह अच्छी है ये उन … Continue reading

Posted in Barun Jha, Blogs, Erratic, Random, Thoughts, Writing | Tagged , , , , , ,